You are currently viewing Dr Vijay Raghavan
Dr. Vijay Raghavan

Dr Vijay Raghavan

डॉ. विजय राघवन (एक परिचय)

Dr Vijay Raghavan (डॉ. विजय राघवन) ने सैनिक स्कूल नगरोटा, जम्मू से इंटरमीडिएट करने के बाद M.B.B.S. की पढ़ाई पाटलिपुत्र मेडिकल कॉलेज, धनबाद से की औरM.D. (Preventive Medicine) की डिग्री दरभंगा मेडिकल कॉलेज से प्राप्त की. डॉ. विजय राघवन ने कई मेडिकल कॉलेजों में शिक्षण का काम किया है । वर्तमान में डॉ. विजय राघवन एसोसिएट प्रोफेसर में नियुक्त हैं, लार्ड बुद्धा मेडिकल कॉलेज, सहरसा। Associate professor, Lord Buddha Medical College, Saharsa.

शुरू से ही इन्हें अनुसंधानों में रूचि थी. इसलिए इन्होंने भारत भर के विभिन्न अनुसंधान केन्द्रों का भ्रमण किया. कुछ समय तक इन्होंने डॉ. बी. एन. चक्रवर्ती कोलकत्ता के संस्थान Institute of Reproductive Medicine में IVF (invitro-fertilisation) की ट्रेनिंग ली. इसके बाद इन्होंने कई संस्थानों में जाकर अनुसंधान की रुचि  से काम किया.

इन्होंने स्थानीय लोगों को अनुसंधान की ट्रेनिंग देकर चिकित्सीय अनुसंधान केंद्र की स्थापना की. पुर्णिया में Molecular biology laboratory, Stem cell Laboratory and IVF केंद्र की स्थापना की. इस संस्थान में डायबिटीज, कैंसर, किडनी फेलियर, आर्थराइटिस इत्यादि पर अनुसंधान कार्य की शुरुआत हुई.

डॉ राघवन ने गहन शोध शुरू किया और एग्रीकल्चर विषेशज्ञों, IVF अथवा इनविट्रो-फर्टिलाइजेशन, Test-Tube Baby प्रक्रिया, Stem cell research और जानवरों में बिमारियों का अध्ययन कर कई तरह के अनुसंधानों को अंजाम दिया। 

उनके अनुसंधान प्राकृतिक चिकित्सा से मिलते जुलते थे. इसलिए उन्होंने प्राकृतिक चिकित्सा का गहन अध्ययन किया और प्राकृतिक चिकित्सा को पूरे भारत में फैलाने के लिए AYUSH Academy की स्थापना की। 

विश्वभर के वैज्ञानिक अनुसंधानों को मिलाकर मेटाबोलिक उपचार विकसित हुआ.

इन्होंने मानवता की तड़प और लाइलाज मरीजों और उसके परिवार के दुखों को महसूस किया और चिकित्सीय कार्य छोड़कर अनुसंधान में लग गये. वर्षों के अथक प्रयास से इन्होंने मेटाबोलिक चिकित्सा विकसित की, जो विश्वभर के वैज्ञानिक अनुसंधानों को मिला कर बना है. वैज्ञानिक जैसेJoel D. Wallach, Thomus Siefried, Marcola, Leonard Coldwell, Gerson इत्यादि के अनुसंधानों को मिलाकर विभिन्न बीमारयों का उपचार विकसित किया गया.

उन्होंने स्टेम सेल लेबोरेटरी विकसित की और कोशिकीय स्तर पर बीमारियों के उपचार का विस्तृत अध्ययन किया फिर उन उपचारों का जानवरों पर परीक्षण किया. इन्होंने Joel D. Wallach के जानवरों पर प्रयोग को आधार मानते हुए डायबिटीज, कैंसर, किडनी फेलियर, आर्थराइटिस इत्यादि के मेटाबोलिक उपचार के लिए दवाईयां विकसित की.

इन दवाओं की ख़ास बात यह है कि इनका कोई भी दुष्परिणाम नहीं है और यह बीमारियों के उपचार में पूर्णतः सक्षम है.

अनुसंधान में उपलब्धियां

कैंसर, किडनी फेलियर, आर्थराइटिस, डायबिटीज इत्यादि के वर्तमान उपचारों का तुलनात्मक अध्ययन करने के बाद, इन्होंने अमेरिका, रूस, ब्रिटेन, जर्मनी इत्यादि के वैज्ञानिकों के आविष्कारों को मिलाकर मेटाबोलिक चिकित्सा विकसित की. इसी दौरान इन्हें Thomus Siefried के चिकत्सीय अनुसंधान- कैंसर का मेटाबोलिक उपचार का विस्तृत अध्ययन करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ.

पूरे विश्व के वैज्ञानिक लाइलाज बीमारियों पर शोध कार्य कर रहे हैं उनके अनुसंधानों को लागू करने के लिए इन्होंने AYUSH Academy की स्थापना की जिसके द्वारा प्राकृतिक चिकित्सा के साथ -साथ मेटाबोलिक चिकित्सा की ट्रेनिंग दी जा सके और बेहतर चिकित्सा का प्रसार पूरे भारत में हो सके।

डॉ.राघवन के प्रयास, देश की चिकित्सा की तस्वीर बदल सकती है। अगर इस चिकित्सा का सम्पूर्ण विस्तार हो जाय तो हमारा देश विकसित देशों की श्रेणी में गिना जाएगा। 

Read in English

भारत में मेटाबोलिक चिकित्सा लागू करने की योजना

डॉ. विजय राघवन के पास पूरे भारत से बिमारियों के भय को ख़त्म करने की मजबूत योजना है, जिसे वह सरकार को समर्पित करना चाहते हैं. आम लोगों से अपील है कि इसमें सभी वर्ग और समुदाय के लोग साथ दें. क्योंकि कोई भी व्यक्ति बीमारियों से ग्रसित और लाइलाज हो सकता है. डायबिटीज, किडनी फेलियर, कैंसर जैसे रोग किसी को भी हो सकते हैं.

अगर आप बीमार पड़ने से पहले सही चीजों का साथ देंगे तो शायद आप बीमार ही ना पड़ें. गरीब लोगों को बीमारियों का बोझ इतना हो जाता है कि इससे ना तो देश प्रगति कर रहा और ना ही देश से गरीबी ही खत्म हो रही है. पूरे जीवन की कमाई एक बार बीमार पड़ने पर खर्च हो जाता है और मरीज भी ठीक नहीं होता. ऐसे में हरेक व्यक्ति का दायित्व बनता है कि मेटाबोलिक उपचार को पूरे देश में लागू करायें और लोगों को इसका प्रशिक्षण लेने के लिए प्रोत्साहित करें.

हम उम्मीद करते हैं कि आम लोग अपना इगो छोड़कर सच्चाई का साथ देंगे. Kidney Failure patient consultation

Dr Vijay Raghavan
Dr. Vijay Raghavan

Leave a Reply