cancer

Why traditional treatment failed in Lung cancer

पारंपरिक उपचार क्यों नहीं करानी चाहिए

  • Surgery:  फेफड़ों के कैंसर की सर्जरी एक बहुत ही नाजुक प्रक्रिया है जिसके सफल होने की संभावना काफी कम हैं.  अगर सर्जरी सफल भी हो जाए फिर भी सर्जरी से कैंसर ठीक नहीं होता और मरीज को कैंसर के लक्षण तुरंत ही प्रकट हो जाते हैं. सर्जरी उसी तरह के ट्यूमर में कारगर है जो कैंसर नहीं है. कभी-कभी कैंसर में डायग्नोसिस अथवा जांच के लिए बायोप्सी की जाती है, इस प्रक्रिया से भी कैंसर पूरे शरीर में फ़ैल जाता है. इस तरह के जांच से कोई फायदा नहीं होता क्योंकि बीओप्सी करने मात्र से ही कैंसर फैलने लगता है और मरीज की जल्दी ही मृत्यु हो जाती है. इसलिए ब्रैस्ट  का ऑपरेशन कराने से पहले मेटाबोलिक उपचार कराकर देखें इस उपचार में सफलता दर सर्जरी से बेहतर है और इसके दुष्परिणाम नहीं के बराबर है.  
  • Radiation therapy:  Radiotherapy is used to reduce pain in cancer. Such treatment are proven to be useless and harmful. It never cures any type of cancer. Life expectancy reduces after this treatment moreover pain and other symptom also aggravates after radiation therapy. रेडिएशन द्वारा उपचार में कैंसर के दर्द को कम करने की कोशिश की जाती है. यह उपचार काफी खतरनाक और पूर्णतः विफल पद्धति है. यह उपचार किसी भी व्यक्ति को नहीं करानी चाहिए.
  •  Chemotherapy : It is totally an unsuccessful treatment. Success rate of chemotherapy is less than 2%. Means those taking chemotherapy can not live for more than 5 years after treatment. Less than two out of 100 patient treated can live more than 5 years. See the proof. कीमोथेरेपी के द्वारा कैंसर कोशिकाओं को मारने की कोशिश की जाती है. क्योंकि कैंसर कोशिकाएं सामान्य कोशिकाओं की अपेक्षा ज्यादा ताकतवर होती हैं, इसलिए कीमोथेरेपी से मरीज की ही मृत्यु हो जाती है. कभी -कभी कम मात्रा में कीमोथेरेपी देने से मरीज नहीं मरता परन्तु इससे कैंसर भी नहीं ठीक होता. इस तरह कीमोथेरेपी पूर्णतः असफल उपचार है. Best oncologist in the world never prescribe chemotherapy in lung cancer and we are one of them.

पारंपरिक उपचार की सच्चाई जानें

कैंसर एक लाइलाज और खतरनाक बिमारी इसलिए है क्योंकि गलत सिद्धांतों और गलत उपचार से कैंसर संस्थान अरबों का व्यापार कर रहे हैं और उस उपचार से कैंसर ठीक नहीं हो सकता. 

क्योंकि गलत सिद्धांतों पर आधारित उपचार को सरकारी मदद मिलती है इसलिए आम लोग ग़लतफ़हमी में आकर अपनी जान गवां रहे हैं.

Leave a Reply